अपडेट रहें!

हर समय आपके लिए एक से एक ऑफर्स और डील बनाने में हम जुटे रहते हैं। जिन्हे सीधे आपकी डिवाईस पर वेबसाईट नोटिफिकेशन के रूप मे भेजते रहते हैं।

आपको केवल "अलाव" पर क्लिक करना है।

ऑफ़र के लिए जांच

क्या आपको यकीन है?

आप टाटा कैपिटल से विशेष ऑफ़र के लिए पात्र नहीं होंगे

विवरण प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद

यदि कोई विशेष ऑफ़र उपलब्ध है तो हम आपको सूचित करेंगे

पर्सनल लोन ब्याज दर और प्रभार

पर्सनल लोन पर ब्याज दर क्या है?

पर्सनल लोन पर ब्याज दर वह राशि निर्धारित करता है जिसे आपको अपने लोन के बदले बराबर मासिक किश्त (ईएमआई) के तौर पर चुकाना होगा। पर्सनल लोन पर ब्याज की दरें अधिक या कम हो सकती हैं। इसके अलावा, आपके सिबिल स्कोर, आय, लोन चुकाने की क्षमता, उधार ली जाने वाली राशि, लोन अवधि, नियोक्ता की साख, नियोक्ता की प्रकृति, वित्तीय इतिहास, ऋण-आय अनुपात और अन्य पर्सनल लोन पात्रता मानदंड जैसे कारकों के अनुसार हर एक उधारकर्ता के लिए दरें अलग-अलग हो सकती हैं।

छोटे ईएमआई में भुगतान करने के लिए आपको अधिक आकर्षक ब्याज दर प्राप्त होंगे। टाटा कैपिटल के साथ आपको पर्सनल लोन्स पर प्रतिस्पर्धाशील और योग्य ब्याज दर प्राप्त होंगे। इस क्षेत्र में हमारे ब्याज दर सबसे कम हैं, जो 10.99%. से प्रारंभ होते हैं।

पर्सनल लोन पर ब्याज की वर्तमान दर क्या है?

पर्सनल लोन पर ब्याज दर इस आधार पर कि आप वित्तीय संस्थान की आवश्यकताओं को कैसे पूरा करते हैं 101% और 102% के बीच में कहीं भी अलग अलग हो सकता है। लेकिन, महामारी से प्रभावित आर्थिक मंदी के कारण, पर्सनल लोन की ब्याज दरें काम हुई हैं। आइए जानते हैं क्यों?

देशव्यापी वित्तीय संकट के संबंध में रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) द्वारा रेपो रेट 40 बेसिस पॉइंट से कम करके उसे 4%. किया है। यहाँ पर, रेपो रेट वह दर होती है, जिस दर पर मध्यवर्ती बैंक द्वारा बैंकों और एनबीएफ़सी को ऋण दिया जाता है। जब कभी आरबीआई द्वारा रेपो रेट कम किए जाते है, तब जिस दर पर वित्तीय संस्थानों ने ऋण लिया है उसका लाभ ऋणदाताओं तक पहुँचने के लिए पर्सनल लोन की दरें कम की जाती हैं।

पर्सनल लोन पर ब्याज दर इतना महत्वपूर्ण क्यों है?

पर्सनल लोन पर ब्याज ध्यान देने योग्य महत्वपूर्ण कारक है क्योंकि यह लोन का कुल लागत निर्धारित करता है। आइए देखते हैं कैसे।

हर लोन ईएमआई में दो घटक शामिल होते हैं - मूलधन और ब्याज। यदि आपका कुल ब्याज राशि अधिक है तो यह सीधे आपकी भुगतान की जाने वाली कुल राशि को बढ़ाएगी।

इसी कारण पर्सनल लोन ईएमआई जो आपको निर्धारित लोन अवधि पर अपना मूलधन राशि चुकाने के लिए भुगतान करना होता है लागू नवीनतम पर्सनल लोन ब्याज की दरों द्वारा संचालित होता है। यहाँ, कम दर आपके कुल ब्याज के भुगतान को कम कर देगा, और इस तरह लोन अवधि के दौरान ऋणदाता को कम ईएमआई चुकाना होगा।

आपके पर्सनल लोन पर ब्याज की दर का हिसाब कैसे लगाया जाता है?

पर्सनल लोन ब्याज का हिसाब एक समान दर और बैलेंस को घटाने वाली पद्धति का उपयोग करके किया जाता है।

एक समान दर की पद्धति में, भुगतान किया गया ब्याज एक जैसा रहता है। कुल देय ब्याज का हिसाब लोन अवधि के दौरान उधर ली गयी राशि पर लगाया जाता है। इसलिए, पर्सनल लोन की दरें एक जैसी रहती हैं और आपके द्वारा मासिक किश्त का भुगतान करने पर मूलधन राशि के कम होने के बाद भी कम नहीं होता है।

इसके विपरीत, बैलेंस को घटाने वाली पद्धति में ब्याज दर का हिसाब बक़ाया बैलेंस राशि पर लगाया जाता है जो हर बार घट जाता है जब आप ईएमआई का भुगतान करते हैं।

पर्सनल लोन कॅल्क्युलेशन पर ब्याज के लिए गणितीय फ़ॉर्मूला इस प्रकार है:

समान दर

EMI = (मूलधन + कुल भुगतान योग्य ब्याज) / लोन अवधि महीनों में)

यहाँ, कुल देय ब्याज = मूलधन x पर्सनल लोन की दर x लोन अवधि/100

बैलेंस कम करने का तरीका

ईएमआई= [P x R x (1+R)^N]/[(1+R)^ (N-1)]

जहाँ P = मूलधन राशि

N = महीनो में लोन अवधि

R = ब्याज दर

पर्सनल लोन ब्याज दर को प्रभावित करने वाली चीज़ें क्या हैं?

निम्नलिखित कारक आपके नवीनतम पर्सनल लोन ब्याज की दरों को प्रभावित कर सकते हैं।

  • सिबिल स्कोर

आपका सिबिल स्कोर जो आपकी लोन चुकाने की क्षमता को दर्शाता है कम ब्याज दर पर पर्सनल लोन पाने में निर्णायक भूमिका निभाता है। बढ़िया सिबिल रेटिंग के साथ, आप अधिक आकर्षक ब्याज दर पा सकते हैं।

  • लोन चुकाने की हिस्ट्री

आपके सिबिल स्कोर के अलावा, ऋणदाता आपके मौजूदा पर्सनल लोन की दर निर्धारित करने के लिए आपके पिछले क्रेडिट रिकॉर्ड की समीक्षा करते हैं। बिना ईएमआई डिफ़ॉल्ट वाली साफ़ सुथरी क्रेडिट हिस्ट्री और नियमित भुगतान को वरीयता दी जाती है।

  • आय

आपकी आय आपके पर्सनल लोन की दरों को बहुत हद तक निर्धारित करता है। यदि आपका संबंध उच्च-आय वाले ब्रैकेट से है तो ऋणदाता आपको समय पर लोन चुकाने वाला मानता है और आपको अधिक सस्ती ब्याज दरें देता है।

  • नियोक्ता की प्रतिष्ठा

पर्सनल लोन पर नवीनतम ब्याज दरें जो ऋणदाता आपको पेश करता है आपके नियोक्ता की साख पर निर्भर करता है। यदि आप किसी विश्वसनीय संगठन के साथ काम करते हैं तो ऋणदाता आपको ईएमआई में डिफ़ॉल्ट करने वाले के तौर कम संभावना देखता है और अधिक आकर्षक दरें पेश करता है।

  • आय के अनुसार ऋण अनुपात

यदि आप एक से अधिक लोन और क्रेडिट कार्ड की सर्विस कर रहे हैं और आप पर जो ऋण है वह काफी हद तक आपकी मासिक आय का बड़ा हिस्सा खपत कर लेता है तो ऐसी स्थिति में ऋणदाता आपको अधिक जोखिम वाला उधारकर्ता मानता है। यह आप के पर्सनल लोन की ब्याज दरों को प्रभावित कर सकता है।

पर्सनल लोन पर फिक्स्ड और फ्लोटिंग ब्याज की दरें क्या हैं?

फिक्स्ड ब्याज दर

फिक्स्ड दर वाले लोन में, ऋणदाता आपसे पूरी अवधि के दौरान पर्सनल लोन पर एक निश्चित दर लगाते ह